गरीबों के डॉक्टर अजय सहाय ने अति पिछड़ी कमार जनजाति के बीच जाकर लगाया स्वास्थ्य शिविर- चप्पल, छतरियां एवं सेनेटरी नेपकिंस का वितरण भी किया

मिसाल न्यूज़

रायपुर। छत्तीसगढ़ और पड़ोसी राज्यों में “गरीबों के डॉक्टर” के नाम से फेमस हो चुके डॉ अजय सहाय ने अंबेडकर जयंती के अवसर पर घोर नक्सल प्रभावित व अति पिछड़ी कमार जनजाति बाहुल्य गांव फरसियां में निशुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया। प्राथमिक शाला परिसर में आयोजित इस कार्यक्रम में पूर्व विधायक श्रीमती पिंकी शिवराज शाह, ग्राम सरपंच श्रीमती मीना देवी शांडिल्य, उप सरपंच शिवदयाल साहू, साहित्यकार डॉ परदेसीराम वर्मा और सिने कलाकार महेश वर्मा विशेष अतिथि के रूप से उपस्थित थे।

डॉ सहाय की टीम ने विद्यार्थियों एवं ग्रामवासियों का स्वास्थ्य परीक्षण करके निशुल्क दवाइयां प्रदान की। 97 लोगों की ब्लड शुगर जांच की जांच की गई।
इस अवसर पर कमार जाति के लोगों को भेंट स्वरूप चरण पादुकाएं, छतरियां, स्टेशनरी व खाद्य सामग्री भी दी गई। महिलाओं को सेनेटरी नेपकिन वितरित कर व्यक्तिगत स्वच्छता के बारे में जागरूक किया गया। कार्यक्रम का संचालन प्रभारी प्रधान अध्यापक गजानंद सोन ने किया।

उल्लेखनीय है कि कमार जनजाति को भारत सरकार द्वारा “विशेष पिछड़ी जनजाति” का दर्जा दिया गया है। ये राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र हैं। इनकी आबादी 2300 है। ये जंगलों में या बस्ती से दूर अपनी झोपड़ियां बनाकर अलग रहते हैं। पिछले  कुछ सालों से सरकार कमार जनजाति के बच्चों का स्कूल जाने हेतु प्रेरित करती आ रही है।

ज्ञात हो कि डॉ सहाय चिकित्सा जगत की सबसे बड़ी राष्ट्रीय संस्था इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की छत्तीसगढ़ शाखा के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं। समाज सेवा के क्षेत्र में हमेशा से आगे रहे हैं। समाज के कमजोर वर्गों एवं आर्थिक रूप से अक्षम मरीजों को न केवल निशुल्क चिकित्सा सेवा प्रदान करते हैं बल्कि समय समय पर उन्हें जरूरत का सामान भेंट करके उनके दुख दर्द में शामिल भी होते हैं। समाज सेवा के क्षेत्र में उन्हें राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सम्मान मिलते रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.