डॉ. रमन सिंह ने कहा- कांग्रेस की वंशवाद परंपरा देश की बरबादी का कारण, मोदी ने आकर संभाला

मिसाल न्यूज़

रायपुर। भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि कांग्रेस का केन्द्र से सूरज अस्त हो चुका है। एकाध राज्य को छोड़ दें तो सभी तरफ उसका सफाया हो चुका है। कांग्रेस की वंशवाद वाली परंपरा देश की बरबादी का कारण रही थी। नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद देश विकास की राह पर आगे बढ़ा। राष्ट्रवाद की भावना बढ़ी। गरीबी का प्रतिशत नीचे आया। प्रति व्यक्ति आय दुगनी हुई। विदेशी मुद्रा का भंडार बढ़ा।

एकात्म परिसर में आज मीडिया से बातचीत करते हुए डॉ. रमन सिंह ने कहा कि कांग्रेस के लोग इतने चिंता में डूब चुके हैं कि उन्हें बार-बार चिंतन शिविर करने की ज़रूरत पड़ रही है। प्रशांत कुमार जैसे ट्रेनर को कांग्रेस का मैदान छोड़कर भागना पड़ा। पीके ने साफ कहा है कि कांग्रेस को कोई कुछ नहीं सीखा सकता। कांग्रेसी कुछ सीखना ही नहीं चाहते। डॉ. रमन सिंंह ने कहा कि प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी का आठ साल का कार्यकाल पूरा हो रहा है। मोदी जी एक भारत श्रेष्ठ भारत के नारे के साथ आगे बढ़े। गरीबों व किसानों के हित में ज़्यादा से ज़्यादा कार्य उनका लक्ष्य रहा। चूंकि मोदी जी प्रधानमंत्री बनने से पहले 15 साल मुख्यमंत्री भी थे, इसलिए लोगों के दुख दर्द को वे अच्छी तरह समझ पाते रहे। 2014 में प्रधानमंत्री पद पर आते ही उन्होंने समाधान ढूंढना शुरु किया। राज्यों को केन्द्रीय करों के रूप में 32 प्रतिशत हिस्सा जो मिला करता था उसे बढ़ाकर उन्होंने 42 प्रतिशत किया। जीएसटी को लेकर राहुल गांधी से लेकर उनकी पार्टी का हर नेता कन्फ्यूज़ रहा है। जीएसटी का जब फार्मूला तैयार हुआ उसमें हर राज्य से प्रतिनिधि रहे। केन्द्र सरकार हर राज्य को उदारता से राशि देती है। वह किसी के साथ भेदभाव नहीं करती। हमारे केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने छत्तीसगढ़ में आकर 9240 करोड़ की सड़कों का शिलान्यास एवं उद्घाटन किया। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री दिल्ली में प्रेस कांफ्रेंस कर आरोप लगाते हैं कि केन्द्र सरकार ने गरीबों का आवास छिना। सच्चाई यह है कि गरीबों का जो आवास बनता है उसमें 60 प्रतिशत केन्द्र का एवं 40 प्रतिशत राज्य का अंश होता है। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बने 3 साल हो गए लेकिन गरीबों के एक भी आवास स्वीकृत नहीं किए गए। केन्द्र सरकार की सबको स्वच्छ जल देने की योजना है। इसके लिए छत्तीसगढ़ में 33 सौ करोड़ आने की बाद भी यह योजना खटाई में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.