हबीब तनवीर जन्म शताब्दी पर मन को छू जाने वाली डाक्यूमेंट्री का प्रदर्शन, रंग विमर्श में साझा किए गए ‘साहब’ से जुड़े अनुभव

मिसाल न्यूज़

रायपुर। प्रख्यात नाट्य निर्देशक एवं अभिनेता हबीब तनवीर के जन्म शताब्दी वर्ष  पर उन पर बनी डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म ‘तनवीर का सफरनामा’ का प्रदर्शन आज वृंदावन हाल में किया गया। आर्ट कल्चर एंड थिएट्रिकल सोसायटी (FACT) व्दारा यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था।

1 घंटे 18 मिनट की फ़िल्म ‘तनवीर का सफरनामा’ का निर्देशन रंजन कामथ ने किया है। डॉक्यूमेंट्री में हबीब साहब की जिंदगी,उनके रंगमंच सफर, सहयोगी कलाकारों के साथ विदेश टूर , मंचन की तैयारियां, रिहर्सल जैसे आयामों को दिखाया गया है। फिल्म में हबीब साहब के महत्वपूर्ण कथनों के साथ ही उनके कलाकारों – गोविंदराम, मदनलाल, ठाकुर राम, भुलवा राम ,अमर, दीपक तिवारी, पूनम तिवारी एवं ओंकारदास मानिकपुरी से हुई बेबाक बातचीत को दिखाया गया है। हबीब साहब के प्रति उन कलाकारों के भावनात्मक लगाव , जुड़ाव और साथ काम करने के अनुभवों का बहुत मार्मिक चित्रण है।

डाक्यूमेंट्री के प्रदर्शन के बाद रंग विमर्श का भी आयोजन किया गया। इस बातचीत में हबीब साहब से जुड़ी यादों को साझा किया गया। वरिष्ठ साहित्यकार गिरीश पंकज ने उनके साथ गुजारे 10 दिनों को याद किया। हबीब साहब के साथ कलाकार के रूप में काम किए वरिष्ठ रंगकर्मी योग मिश्र ने हबीब साहब के निर्देशन की खूबियों को रेखांकित किया। योग  मिश्रा ने कहा कि हबीब साहब ये नहीं बताते थे कि क्या करना है बल्कि वे ये समझाते थे कि क्या नहीं करना है और कितना करना है। दिल्ली से आई ऋतु रानी हबीब तनवीर पर शोध कर रही हैं उन्होंने अपने अनुभव साझा किए। वरिष्ठ शायर मीर अली मीर ने भी अपने अनुभव बताए। इस अवसर पर बड़ी संख्या में कला प्रेमी उपस्थित थे।

फिल्म आर्ट कल्चर एंड थिएट्रिकल सोसायटी (FACT)*  रायपुर के संयोजक जीवेश चौबे ने बताया कि हबीब तनवीर की जन्म शताब्दी वर्ष के अवसर पर साल भर डॉक्यूमेंट्री/व्याख्यान /नाट्य प्रदर्शन आदि आयोजन किए जाने का निर्णय लिया गया है। FACTS द्वारा हबीब तनवीर की स्मृति में लगातार 5 वर्ष तक तनवीर रंग महोत्सव (तरंगम’) का आयोजन किया जाता रहा है। कोरोना के चलते विगत 2 वर्ष यह कार्यक्रम स्थगित रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.