बृजमोहन ने कहा-हसेदव अरण्य मामले में सोनिया व गहलोत को खुश करने छत्तीसगढ़ के हितों की दी जा रही बलि

0 सिंहदेव गोली खाने की बजाय मंत्री पद से  इस्तीफा देकर सड़क की लड़ाई लड़ें

मिसाल न्यूज़

रायपुर । पूर्व मंत्री व भाजपा विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने आरोप लगाया कि हसदेव अरण्य पर भूपेश सरकार अपनी नेता सोनिया गांधी और बड़े भाई अशोक गहलोत को खुश करने के लिए छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़िया हितों की बलि दे रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ की जनता को बताएं जो प्रोजेक्ट 3 वर्षों से रुका हुआ था आखिर किसके दबाव में मात्र 3 महीनों में उसे स्वीकृति दे दी गई? नियम कायदे और कानून कहते हैं कि राज्य सरकार अगर पर्यावरण मंजूरी न दे और खुद से होकर न चाहे तो कोई भी उसके क्षेत्र में खनन नहीं कर सकता।

एकात्म परिसर में आज मीडिया से बातचीत करते हुए बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि कांग्रेसी निजी हित में जनता को बरगलाना बंद करें। शायद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भूल गए हैं कि विधानसभा चुनाव के पहले 2018 में राहुल गांधी हसदेव आकर जंगल, जमीन और संस्कृति को बचाने की बात कहते हुए यहां के पेड़ नहीं कटने देने का वादा करके गए थे। राहुल गांधी ने हाल ही में अमेरिका में भी कहा है कि अपनी सरकार के इस निर्णय पर सहमत नहीं हूं। मैं इस पर चर्चा करूंगा। इधर छत्तीसगढ़ सरकार के स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव कह रहे हैं कि पेड़ कटे तो पहली गोली खाने वाला मैं रहूंगा। सिंहदेव गोली खाने के बजाय मंत्रि मंडल से इस्तीफा देकर सड़क की लड़ाई लड़ें। भूपेश बघेल बताएं कि विगत 3 वर्षों में उन्होंने छत्तीसगढ़ में कितने वृक्ष लगाए हैं जो हसदेव जैसे सघन वन क्षेत्र कटने पर वृक्ष लगाने की बात कहते हैं। अग्रवाल ने कहा कि जब से छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार आई है वैकल्पिक ऊर्जा की तरफ कभी ध्यान ही नहीं दिया गया। हम यह नहीं कहते कि कोयले की आवश्यकता नहीं है परंतु इसके लिए इस सघन वन को काटने की अपेक्षा क्षेत्र परिवर्तित किया जा सकता है। उन्होंने आरोप लगाया कि अपने स्वार्थ, अपने हित और अपनी कुर्सी बचाने के लिए यह सरकार घने जंगल को, वहां के आदिवासियों को, आदिवासी संस्कृति को समाप्त करना चाहती है। ऐसे मौके पर भारतीय जनता पार्टी जंगल में रहने वाले वनवासी, आदिवासी ,रहवासी और प्रभावितों के साथ है।

मीडिया से बातचीत के दौरान पूर्व मंत्री व भाजपा प्रवक्ता केदार कश्यप, मीडिया प्रभारी नलिनेश ठोकने, विकास मरकाम और अनुराग अग्रवाल उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.