‘साथी रे’ में छत्तीसगढ़ से जुड़ा गंभीर मुद्दा, साथ ही मनोरंजन का तड़का भी-अनुपम भार्गव

मिसाल न्यूज़

छत्तीसगढ़ी फ़िल्म ‘साथी रे’ 1 दिसंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होने जा रही है। फ़िल्म के निर्देशक अनुपम भार्गव ने बताया कि ‘साथी रे’ मेरी अब तक की फ़िल्मों से एकदम अलग हटकर है। छत्तीसगढ़ से जुड़े गंभीर मुद्दे को हमने अपनी इस फ़िल्म में उठाया है कि किस तरह से गांव के बहुत से परिवार कमाने खाने के लिए बाहर जाते हैं और साजिशों का शिकार हो जाते हैं।

अनुपम भार्गव ने बताया कि ‘साथी रे’ मसाला एंटरटेनर है। मेरी हमेशा से कोशिश रही है कि अलग तरह के सब्जेक्ट पर फिल्म बनाऊं। ‘तीन ठन भोकवा’, ‘टिकट टू छॉलीवुड’, ‘द सेनीटाइजर’ जैसी फ़िल्में इसका उदाहरण हैं। ‘साथी रे’ की कहानी जब मैंने मन कुरैशी और मुस्कान साहू को सुनाई तो वे इस फिल्म को करने सहर्ष तैयार हो गए। दोनों को इस कहानी में कुछ अलग दिखाई दिया। फिल्म की निर्माता रेनू वर्मा ने यह कहानी सुनकर निर्माण के लिए हामी भरने में देर नहीं लगाईं। इस फिल्म में संगीत सुनील सोनी का है, जो कि काफी कर्णप्रिय और सुमधुर बन पड़ा है। मन कुरैशी और मुस्कान साहू की सदाबहार जोड़ी बहुत ही अलग अंदाज़ में देखने को मिलेगी। यह आज की जनरेशन को ध्यान में रखकर बनाई गई फिल्म है। हाई लेवल का एक्शन सस्पेंस रोमांस और सिचुएशन के हिसाब से गाने यह सब कुछ इस फिल्म में देखने को मिलेगा। इसमें छत्तीसगढ़ के सुपर विलेन अजय पटेल एवं पुष्पेंद्र सिंह क्रूरता दिखाएंगे। साथ ही राजेश पांड्या, शैलेंद्र भट्ट, नीतिका भार्गव, उषा विश्वकर्मा, तरुण बघेल, लतीश भांगे, अरुण भांगे, सुमित दुआ एवं विजय भौमिक जैसे मंजे हुए कलाकार भी फ़िल्म का अहम् हिस्सा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.