‘मया होगे रे’ में छत्तीसगढ़ के पर्व एवं परंपराओं का रंग- विजय मिश्रा ‘अमित’

मिसाल न्यूज़

छत्तीसगढ़ी फिल्म ‘मया होगे रे’ 2 सितंबर को एक साथ छत्तीसगढ़ की 18 सिल्वर स्क्रीन में रिलीज होने जा रही है। इस फ़िल्म में वरिष्ठ लोक कलाकार विजय मिश्रा ‘अमित’ महत्वपूर्ण किरदार में नज़र आएंगे। मिश्रा कहते हैं- ‘मया होगे रे’ में छत्तीसगढ़ के पर्व एवं परंपराओं का बखूबी चित्रण किया गया है।

एक छोटी सी मुलाकात में विजय मिश्रा ने बताया कि मैं कुछ ही महीनों पहले छत्तीसगढ़ स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड से अतिरिक्त महाप्रबंधक (जनसंपर्क) के पद से सेवानिवृत्त हुआ हूं। अब अपने पुराने अभिनय के शौक को छत्तीसगढ़ी फ़िल्मों के माध्यम से रंग देने की कोशिश कर रहा हूं। ‘मया होगे रे’ में छत्तीसगढ़ी कर्मा गीत का सुंदर प्रयोग हुआ है। यह एक त्रिकोणीय प्रेम कथा है। लोक परंपराओं पर आधारित गीतों के साथ-साथ बहुत ही सुंदर लोकेशन में इसे फिल्माया गया है। छत्तीसगढ़ी सिनेमा के सुपर हीरो प्रकाश अवस्थी एवं नायिका सोनाली सहारे के साथ काम करना सुखद अनुभूति रही। निर्देशक शेखर चौहान के बेटे भूपेश चौहान की इस फ़िल्म के माध्यम से छत्तीसगढ़ी सिनेमा में शानदार शुरुआत होने जा रही है। अन्य प्रमुख कलाकार शिखा चिदाम्बरे, योगेश अग्रवाल, सलीम अंसारी, पुष्पेंद्र सिंह, उपासना वैष्णव एवं उर्वशी साहू हैं। नये उभरते खलनायक लकी रघुवंशी को आप इस फ़िल्म में नये अंदाज़ में देखेंगे। नितेश लहरी फ़िल्म के कार्यकारी निर्देशक हैं। उनके अनुभवों का पूरा लाभ इस फ़िल्म को  मिला है।

विजय  मिश्रा छत्तीसगढ़ के सुप्रसिद्ध लोक कला मंचों चंदैनी गोंदा, सोनहा बिहान, लोक नाट्य कारी एवं लोरिक चंदा से जुड़े रहे। वे ऑल इंडिया आर्टिस्ट एसोसिएशन शिमला में बलराज साहनी अवार्ड से अलंकृत हो चुके हैं। दूरदर्शन केंद्र दिल्ली एवं विविध भारती से इनके नाटकों का प्रसारण हो चुका है।
इनकी ‘पहुना’, ‘बहुरिया’, ‘मोही डारे’, ‘पंचायत के फैसला’ एवं ‘लीलागर’ जैसी छत्तीसगढ़ी फ़िल्में आ चुकी हैं। इनकी आने वाली फिल्में ‘मोर स्वीट हार्ट’ एवं ‘सोंचत सोंचत होगे प्यार’ हैं। वर्तमान में छत्तीसगढ़ी में बन रहे धारावाहिक ‘राम के लीला रामायण’ में राजा दशरथ की भूमिका निभा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.